Best Shayari Tehzeeb Hafi

Anurag Shukla
Shayari, Slogans, Jokes, Quotes & Funny Images
तेरी खातिर तेरी ख़ुशी के लिए, मैंने सिगरेट भी छोड़ दी हैं  दोस्त  Tahzeeb hafi Shayari

किसके बारे में सोचती हैं  दोस्त तू तो बिल्कुल बदल गई हैं दोस्त 

तेरी खातिर तेरी ख़ुशी के लिए, मैंने सिगरेट भी छोड़ दी हैं  दोस्त 

एक शिकायत मुझे भी हैं तुझसे, तू बहुत झूठ बोलती हैं दोस्त. 

Anurag Shukla
Shayari, Slogans, Jokes, Quotes & Funny Images
मैं ही तो सब कुछ गलत करता हूँ

बाद में मुझ से ना कहना घर पलटना ठीक है
वैसे सुनने में यही आया है रस्ता ठीक है
शाख से पत्ता गिरे, बारिश रुके, बादल छटें
मैं ही तो सब कुछ गलत करता हूँ अच्छा ठीक है

Anurag Shukla
Shayari, Slogans, Jokes, Quotes & Funny Images
धोखा करती है।

ख्वाबों को आँखों से मिन्हा करती है
नींद हमेशा मुझसे धोखा करती है।

उस लड़की से बस अब इतना रिश्ता है
मिल जाए तो बात वगैरा करती है।

Anurag Shukla
Shayari, Slogans, Jokes, Quotes & Funny Images
तेरा इंतज़ार हो।

अब इतनी देर भी ना लगा, ये हो ना कहीं
तू आ चुका हो और तेरा इंतज़ार हो।

Anurag Shukla
Shayari, Slogans, Jokes, Quotes & Funny Images
मगर उसके घर का पता जानते हो?

तुम्हें हुस्न पर दस्तरस है बहोत, मोहब्बत वोहब्बत बड़ा जानते हो
तो फिर ये बताओ कि तुम उसकी आंखों के बारे में क्या जानते हो?

ये ज्योग्राफियाँ, फ़लसफ़ा, साइकोलोजी, साइंस, रियाज़ी वगैरह
ये सब जानना भी अहम है मगर उसके घर का पता जानते हो?

Anurag Shukla
Shayari, Slogans, Jokes, Quotes & Funny Images
यार ये कैसा महबूब है?

घर में भी दिल नहीं लग रहा, काम पर भी नहीं जा रहा
जाने क्या ख़ौफ़ है जो तुझे चूम कर भी नहीं जा रहा।

रात के तीन बजने को हैं, यार ये कैसा महबूब है?
जो गले भी नहीं लग रहा और घर भी नहीं जा रहा।

Page 2