Yoga tips: These exercises will help to get rid of thyroid problems, थायरॉयड को दूर करने में सहायक है ये योगासन, आज ही से करें

These exercises will help to get rid of thyroid problems

आज के समय में तेजी से बदलते लाइफस्टाइल की वजह से सेहतमंद और फिट रहना एक चुनैती हो गई हैं. हर कोई किसी न किसी बीमारी की चपेट में हैं. ऐसे में आज के थायरॉयड एक आम बीमारी बनती जा रही हैं. हर उम्र के लोग इसके चपेट में आ जा रहे हैं. हमारे शरीर में गले में बहुत छोटी सी ग्रंथि पायी जाती है जिसे थायरॉयड ग्रंथि कहा जाता हैं. इसमें से कई सारे हॉर्मोन बनते हैं जो शरीर के लिए लाभकारी होते हैं. 

Bhujangasana

इसमें से एक है थायरॉक्सिन(T4) हॉर्मोन जिसके कम बनने से हाइपो थायरॉयडिज्म और अधिक बनने से हाइपर थायरॉयडिज्म की समस्या हो जाती हैं. 

हाइपो थायरॉयडिज्म हाइपो थायरॉयडिज्म के मरीजों को कमजोरी, याददश्त क्षमता कम और ध्यान पर केंद्रित करने में समस्या होती है. साथ ही हाइपर थायरॉयडिज्म वाले पेशेंट को तनाव, और अचानक से घबराहट होने लगती है.  ऐसे में इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आपको इन योगासनों का अभ्यास करना चाहिए जिससे आपको थायरॉयड की समस्या नहीं होती है. साथ ही आप बहुत हेल्थी और फिट रहते है. 

भुजंग आसन : इस योगासन को करने से आपके गले व गर्दन की पूरी एक्सरसाइज हो जाती है. जिससे थायरॉयड ग्रंथि सुचारु रूप से काम करती है और आप थायरॉयड की चपेट में आने से बच सकते है. इसे ज्यादातर हाइपो थायरॉयडिज्म वाले मरीज करें, उन्हें जल्दी आराम मिलेगा. 

अनुलोम-विलोम करने से दूर होती है माइग्रेन की तकलीफ, हफ्ते भर में देखिये लाभ

आसन करने कर तरीका: इसे करने के लिए पहले अपने पेट के बल लेट जाइये. इसके बाद अपने कंधों के नीचे अपनी हथेली को रखिए. सांस अंदर खींचते हुए अपने शरीर के ऊपरी हिस्से को ऊपर की ओर उठाइये. अब अपने घुटनों को झुककर अपने दोनों पैरों की आसमान की और उठाइये. अपने उँगलियों को पूरी तरह से स्ट्रेच कीजिए और इसके बाद सांस छोड़ते हुए अपनी असली पोजीशन में वापस आ जाइये. 

नाड़ीशोधन प्राणायाम: इसे करने से थायरॉयड की समस्या से निजाद मिलता है. साथ ही शरीर में रक्त संचार की प्रक्रिया ठीक से होती है. 

करने का तरीका: इसे करने के लिए अपने दाहिने हाथ की उँगलियों को मुंह के सामने रखिये. अब तर्जनी और बीच की उंगली को माथे के बीचों-बीच हल्के से रखिये. इसके बाद अपना अंगूठा दांये नाक के छिद्र के ऊपर और अनामिका को बांये नाक के छिद्र के ऊपर रखिये. इसके बाद पहले नाक से सांस खींचिए जबकि दूसरी नाक बंद रहेगी और इसके बाद दूसरी नाक से भी वही क्रिया कीजिए. इसे लगातार 30 मिनट तक करना हैं.