Shayari by Gulzar Sahab

134151 Views

आदतन तुम ने कर दिए वादे
आदतन हम ने ऐतबार किया
तेरी राहो में बारहा रुक कर
हम ने अपना ही इंतज़ार किया
अब ना मांगेंगे जिंदगी या रब
ये गुनाह हम ने एक बार किया  

Post a comment

Comments

    No comment found. Be the first to write a comment!