Facts on indus valley harapan civilization, प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता से जुड़ें दिलचस्प तथ्य

FACTS ON INDUS VALLEY HARAPAN CIVILIZATION, प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता से जुड़ें दिलचस्प तथ्य

FCT-5752

हड़प्पा सभ्यता को भारतीय उपमहाद्वीप की प्रथम नगरीय सभ्यता माना जाता है.

FCT-5753

हड़प्पा सभ्यता को सिंधु घाटी सभ्यता का नाम इसके प्रमुख नगर मोहनजोदड़ो की खुदाई के कारण मिला. क्योंकि मोहनजोदड़ो की खुदाई सिंधु नदी के किनारे हुई थी. इसी सिंधु नदी के कारण इसे सिंधु घाटी सभ्यता कहा जाने लगा.

FCT-5754

हड़प्पा सभ्यता के प्रथम अवशेष हड़प्पा नामक स्थान से प्राप्त हुए थे. हड़प्पा नामक स्थान से प्राप्त अवशेषों के कारण ही इस सभ्यता को हड़प्पा सभ्यता कहा गया.

FCT-5755

हड़प्पा सभ्यता 2500 ईसा पूर्व से 1500 ईसा पूर्व तक फली फूली.हड़प्पा सभ्यता की तिथि ज्ञात करने के लिए कार्बन डेटिंग पद्धति का सहारा लिया गया.

FCT-5756

सिंधु घाटी सभ्यता का विस्तार उत्तर में जम्मू से लेकर दक्षिण में नर्मदा के किनारे तक और पश्चिम में बलूचिस्तान के मकरान समुद्र तट से लेकर उत्तर पूर्व में मेरठ तक था.

FCT-5757

सिंधु सभ्यता का क्षेत्रफल 12,99,600 वर्ग किलोमीटर तथा अकार त्रिभुजाकार था.

FCT-5758

सिंधु सभ्यता मिस्त्र सभ्यता से भी बड़ी सभ्यता थी

FCT-5759

सिंधु घाटी सभ्यता को कांस्य युगीन सभ्यता कहा जाता है.

FCT-5760

सिंधु घाटी सभ्यता की नगर विन्यास पद्धति 'Grid System ' पर आधारित थी.

FCT-5761

सिंधु सभ्यता के नगरों की गलियां चौड़ी व सीधी हुआ करती थी तथा एक दूसरे को समकोण पर काटती थी.

FCT-5762

अधिकतर हड़प्पा वासी अपने घरों को दो मंजिल के बनाते थे.

FCT-5763

इन घरों के प्रमुख दरवाजे बाहर सड़क की तरफ खुलते थे.

FCT-5764

भारत में वास्तुकला का आरंभ सिंधु वासियों ने ही किया था.

FCT-5765

सिंधु सभ्यता की सबसे बड़ी इमारत का नाम अन्नागार है जो मोहनजोदड़ो की खुदाई से मिली.

FCT-5766

मोहनजोदड़ो की खुदाई से एक विशाल स्नानघर भी मिला है.

FCT-5767

सिंधु सभ्यता वासियों के घरों के फर्श आमतौर पर कच्चे होते थे सिर्फ कालीबंगा से कुछ पक्के फर्श के साक्ष्य मिले हैं.

FCT-5768

विश्व में सर्वप्रथम कपास की खेती करने का श्रेय सिंधु वासियों को ही जाता है.

FCT-5769

सिंधु सभ्यता वासी चावल और बाजरा की खेती करना भी जानते थे चावल और बाजरा के साक्ष्य लोथल से मिले हैं

FCT-5770

लोथल एक ऐसा स्थान था जो सिंधु सभ्यता वासियों का प्रमुख बंदरगाह था.

FCT-5771

बनावली से मिले हल के प्रमाण के आधार पर कहा जा सकता है कि यह लोग हल चलाना भी जानते थे.

FCT-5772

कालीबंगा की खुदाई में जूते हुए खेत के प्रमाण भी मिले हैं.

FCT-5773

सिंधु वासी हाथी और घोड़े से परिचित थे परंतु उन्हें फालतू नहीं बना सके.

FCT-5774

सुरकोटदा की खुदाई से घोड़े के होने के प्रमाण मिले हैं.

FCT-5775

चन्हुदड़ो की खुदाई में एक ईंट पर बिल्ली का पीछा करते हुए कुत्ते के पंजों के निशान भी मिले है.

FCT-5776

सिंधु वासियों को गैंडा,बंदर, भालू, आदि जंगली जानवरों का ज्ञान था परंतु जंगल के राजा शेर को नहीं जानते थे .

FCT-5777

सिंधु सभ्यता के समय मुद्रा प्रणाली का प्रचलन नहीं था.

FCT-5778

यह लोग क्रय विक्रय वस्तु विनिमय आधार पर व्यापार किया करते थे.

FCT-5779

सिंधु सभ्यता के लोग अन्य सभ्यता के लोगों के साथ भी व्यापार करते थे.

FCT-5780

सिंधु सभ्यता के लोग तांबा, चांदी, सोना, शीशा, आदि का व्यापार करते थे यह लोग अफगानिस्तान, ईरान, दक्षिण भारत, तक व्यापार किया करते थे.

FCT-5781

हड़प्पा की खुदाई से मिले साक्ष्यों के आधार पर कहा जा सकता है यह सभ्यता व्यापारी एवं शिल्पियों के हाथों में थी.

FCT-5782

सन 1999 तक सिंधु सभ्यता के 1056 नगरों की खोज हो चुकी थी.1056 नगरों की खोज के कारण ही इस सभ्यता को नगरीय सभ्यता कहां गया.

FCT-5783

सिंधु वासी अपने आभूषणों में सोना, चांदी, तांबा, धातु का प्रयोग करते थे साथ ही यह लोग कीमती पत्थर से बने आभूषणों को भी बहुत चाव से पहनते थे.

FCT-5784

सिंधु सभ्यता के लोग मंदिर नहीं बनाते थे ऐसा इसलिए कहा जा सकता है क्योंकि अब तक की खुदाई से एक भी मंदिर के प्रमाण नहीं मिले हैं.

FCT-5785

हड़प्पा वासी मुख्य रूप से कूबड़ सांड की पूजा करते थे.

FCT-5786

हड़प्पावासी वृक्षों की पूजा भी करते थे खुदाई से मिले पीपल एवं बबूल के पेड़ों के साक्ष्यों के आधार पर ऐसा कहा जा सकता है.

FCT-5787

सिंधु वासी स्वास्तिक चिन्ह बनाना जानते थे मोहनजोदड़ो की खुदाई से एक मोहर पर स्वास्तिक चिन्ह के निशान मिले है.

FCT-5788

सिंधु सभ्यता की लिपि भाव चित्रात्मक थी.

FCT-5789

सिंधु लिपि को पढ़ने का सर्व प्रथम प्रयास L A vadel ने किया था.

FCT-5790

सिंधु सभ्यता की लिपि को अब तक समझा नहीं जा सका है.

FCT-5791

सिंधु वासी लिखते समय चिड़िया, मछली,मानवकृति आदि का प्रयोग किया करते थे. सिंधु लिपि दाएं से बाएं लिखी जाती थी

FCT-5792

सिंधु सभ्यता को ProHistoric युग का माना गया है.

FCT-5793

सिंधु सभ्यता के मुख्य निवासी द्रविड़ और भूमध्यसागरीय थे

FCT-5794

सिंधु सभ्यता के सर्वाधिक स्थल गुजरात में खोजे गए हैं.

FCT-5795

सिंधु सभ्यता वासियों ने मनके बनाने के लिए कारखाने लगा रखे थे.

FCT-5796

कारखानों के साक्ष्य लोथल और चन्हुदडो से प्राप्त हुए है

FCT-5797

सिंधु सभ्यता की मुख्य फसलें गेहूं और जो थी.

FCT-5798

सिंधु सभ्यता वासी तौल की इकाई में 16 का अनुपात रखते थे.

FCT-5799

सिंधु सभ्यता के लोग धरती की पूजा करते थे ऐसा माना जाता है सिन्धुवासी अपने खेतों की ऊर्वरक शक्ति बढ़ाने के लिए धरतीमाता की पूजा करते थे.

FCT-5800

सिंधु सभ्यता वासी मातृदेवी की भी पूजा करते थे.

FCT-5801

सिंधु सभ्यता मातृ प्रधान सभ्यता थी.

FCT-5802

कहा जाता है पर्दाप्रथा सिंधु सभ्यता में प्रचलित थी.

FCT-5803

क्षेत्रफल की दृष्टि से मोहनजोदड़ो सिंधु सभ्यता का सबसे बड़ा नगर था.

FCT-5804

हड़प्पाकालीन स्थलों की खुदाई से मिले प्रमुख साक्ष्य के आधार पर कहा जा सकता है हड़प्पा वासी कुशल कारीगरी करना जानते थे.

FCT-5805

हड़प्पा नगर की खोज 1921 में दयाराम साहनी द्वारा की गई थी.

FCT-5806

हड़प्पा की खुदाई से कुछ महत्वपूर्ण चीजें प्राप्त हुई हैं जैसे शंख का बना हुआ बैल, नटराज की आकृति वाली मूर्ति, पैर में सांप दबाए गरुड़ का चित्र ,मछुआरे का चित्र, आदि

FCT-5807

मोहनजोदड़ो की खोज 1922 में राम लद्दाख बनर्जी द्वारा की गई थी

FCT-5808

मोहनजोदड़ो की खुदाई से भी कुछ महत्वपूर्ण चीजे मिले हैं. जैसे पक्की ईट ,कांसे की एक नर्तकी की मूर्ति, सीडी आदि के साक्ष्य मिले हैं.

FCT-5809

मोहनजोदड़ो को मृतकों का टीला भी कहा जाता है.

FCT-5810

सिंधु सभ्यता के प्रमुख नगर लोथल से भी महत्वपूर्ण साक्ष्य मिले हैं लोथल से बत्तख, बारहसिंघा, गोरिल्ला, दो मुंह वाले राक्षस के अंकन वाली मुद्राएं प्राप्त हुई है.

FCT-5811

सिंधु सभ्यता का एक प्रमुख नगर कालीबंगा है जो घाघर नदी के किनारे राजस्थान में स्थित है.

FCT-5812

कालीबंगा का शाब्दिक अर्थ 'काली चूड़ियां' है

FCT-5813

कालीबंगा से विकसित हड़प्पा सभ्यता के साक्ष्य मिले.

FCT-5814

जूते हुए खेत, सरसों के साक्ष्य से भी कालीबंगा से ही प्राप्त हुए हैं एक सींग वाले देवता के साक्ष्य भी कालीबंगा से मिले है .

FCT-5815

सिंधु सभ्यता में मानव के साथ कुत्ते को दफनाने की प्रथा भी प्रचलित थी ऐसी ही एक प्रथा के साक्ष्य रोपड़ से प्राप्त हुए हैं.

FCT-5816

हरियाणा के बनावली से हल की आकृति वाला खिलौना प्राप्त हुआ है अच्छे किस्म की जो भी यही से प्राप्त हुई है.

FCT-5817

सिंधुवासी खेलो में भी रूचि रखते थे.

FCT-5818

सिंधुवासी सतरंज का खेल जानते थे.

FCT-5819

सिंधु सभ्यता को 'सिंधु सरस्वती' सभ्यता के नाम से भी जाना जाता है ऐसा इसलिए कहा जाता है क्युकी सरस्वती नदी के किनारे भी इस सभ्यता के साक्ष्य मिले हैं.

FCT-5820

प्रथम बार काँसे के प्रयोग के कारण इस सभ्यता को कांस्य युगीन सभ्यता कहा जाता है.

FCT-5821

सिंधु सभ्यता वासियों का प्रमुख व्यवसाय कृषि पर आधारित था.यह लोग जो, बाजरा ,चावल, कपास आदि की खेती करते थे

FCT-5822

हड़प्पा में पकी मिट्टी की स्त्री मूर्तिकाएं भारी संख्या में मिली हैं। एक मूर्ति में स्त्री के गर्भ से निकलता एक पौधा दिखाया गया है। विद्वानों के अनुसार यह पृथ्वी देवी की प्रतिमा है.

FCT-5823

अब तक ज्ञात खुदाई में मात्र 3 प्रतिशत हड़प्पा सभ्यता को ही खोजा गया है.

FCT-5824

लोथल से युगल शवाधान का साक्ष्य मिला है साक्ष्य के आधार पर कहा जा सकता है हिंदू सभ्यता में सती प्रथा का प्रचलन था.

FCT-5825

सिंधु सभ्यता में भक्तिवाद ,पुनर्जन्म आदि के साक्ष्य भी मिले हैं.

FCT-5826

हड़प्पा नगर वासियों के अधिकतर घर पक्की ईंटों के बने होते थे.

FCT-5827

सिंधु सभ्यता में फलों की खेती बहुत कम मात्रा में होती थी.

FCT-5828

बनावली से मिले बैलगाड़ी के खिलौने के साक्ष्य के आधार पर कहा जा सकता है कि यह लोग खेती के लिए बैलगाड़ी का प्रयोग करते थे.

FCT-5829

हड़प्पा संस्कृति प्रगति का मुख्य कारण वहा के लोगो का आत्मनिर्भर होना था.

FCT-5830

सूत्रों के अनुसार हड़प्पा घाटी के अधिकांश लोगो का जीवन समृद्ध था। हड़प्पा में संसाधनों के एकत्रीकरण की व्यवस्था ही संस्कृति के विकास का कारण बनी.

FCT-5831

इस सभ्यता की समकालीन सभ्यता मेसोपोटामिया थी.

FCT-5832

हड़प्पा तथा मोहनजोदड़ो में असंख्य देवियों की मूर्तियां प्राप्त हुई हैं। ये मूर्तियां मातृदेवी या प्रकृति देवी की हैं.

FCT-5833

यहां हुई खुदाई से पता चला है कि हिन्दू धर्म की प्राचीनकाल में कैसी स्थिति थी

FCT-5834

सिन्धु घाटी की सभ्यता को दुनिया की सबसे रहस्यमयी सभ्यता माना जाता है, क्योंकि इसके पतन के कारणों का अभी तक खुलासा नहीं हुआ है.

FCT-5835

चार्ल्स मेसन ने वर्ष 1842 में पहली बार हड़प्पा सभ्यता को खोजा था। इसके बाद दया राम साहनी ने 1921 में हड़प्पा की आधिकारिक खोज की थी.

FCT-5836

हड़प्पा से कई ऐसी चीजें मिली हैं, जिन्हें हिन्दू धर्म से जोड़ा जा सकता है। पुरोहित की एक मूर्ति, बैल, नंदी, मातृदेवी, बैलगाड़ी और शिवलिंग आदि हिंदू धर्म के प्रतीक है.

FCT-5837

1940 में खुदाई के दौरान पुरातात्विक विभाग के एमएस वत्स को एक शिव लिंग मिला जो लगभग 5000 पुराना है.

FCT-5838

मोहनजोदड़ो को सिंध का बाग़ भी कहा जाता है.

FCT-5839

ऐसा माना जाता है मोहनजोदड़ो की स्थापना आज से 4616 वर्ष पूर्व हुई थी.

FCT-5840

इतिहासकारों के अनुसार हड़प्पा सभ्यता के निर्माता द्रविड़ लोग थे.

FCT-5841

इतिहाकारों के अनुसार सबसे पहली बार कपास उपजाने का श्रेय हड़प्पावासियों को ही दिया जाता है.

FCT-5842

हड़प्पा सभ्यता से प्राप्त मोहरो को सर्वोत्तम कलाकृतियों का दर्जा प्राप्त है.

FCT-5843

हड़प्पा वासी मिटी के बर्तनो पर लाल रंग का प्रयोग करते थे.

FCT-5844

मोहनजोदड़ों से प्राप्त विशाल स्नानागार में जल के रिसाव को रोकने के लिए ईंटों के ऊपर जिप्सम के गारे के ऊपर चारकोल की परत चढ़ाई गई थी जिससे पता चलता है कि वे चारकोल के संबंध में भी जानते थे.

FCT-5845

पुरातात्विक विभाग के सर्वे के अनुसार हड़प्पा काल के अंतिम समय में हड़प्पा घाटी के लोग कयी बीमारियों से जूझ रहे थे.

FCT-5846

अंतिम समय में सिन्धुवासी मुख्य रूप से कार्नियो-फेसिअल मानसिक आघात नामक बीमारी से ग्रसित थे, यह बीमारी तेज़ी से फेल रही थी.

FCT-5847

कहा जाता है की हड़प्पा घाटी के लोग आर्थिक रूप से समृद्ध होने के बावजूद भी स्वस्थ नहीं रहते थे.

FCT-5848

1500 ईसा पूर्व के आसपास सिंधु सभ्यता का पतन हो गया

FCT-5849

1947 में पाकिस्तान बनने के बाद सिंधु सभ्यता के दो प्रमुख नगर मोहनजोदड़ो और हड़प्पा पाकिस्तान का हिस्सा बन गए.

FCT-5850

भारत में सिंधु सभ्यता का प्रमुख स्थल धोलावीरा है