Bal Gangadhar Tilak Slogans

BAL GANGADHAR TILAK SLOGANS

SL-1872

मानव स्वभाव ही ऐसा है कि हम बिना उत्सवों के नहीं रह सकते, उत्सव प्रिय होना मानव स्वभाव है। हमारे त्यौहार होने ही चाहिए।”

SL-1870

स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूँगा।”

SL-1875

गर्म हवा के झोंकों में जाए बिना, कष्ट उठाये बिना,पैरों मे छाले पड़े बिना स्वतन्त्रता नहीं मिल सकती। बिना कष्ट के कुछ नहीं मिलता।”

SL-1873

आप मुश्किल समय में खतरों और असफलताओं के डर से बचने का प्रयास मत कीजिये। वे तो निश्चित रूप से आपके मार्ग में आयेंगे ही।”

SL-1877

क्या पता ये भगवान की मर्जी हो की मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ, उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे दुखी होने से अधिक लाभ मिले।”

SL-1878

यह सत्य है कि बारिश की कमी के कारण अकाल पड़ता है, लेकिन यह भी सत्य है कि हमारे लोगों में इस बुराई से लड़ने की शक्ति नहीं है।” ~

SL-1874

प्रातः काल में उदय होने के लिए ही सूरज संध्या काल के अंधकार में डूब जाता है और अंधकार में जाए बिना प्रकाश प्राप्त नहीं हो सकता।”

SL-1871

आलसी व्यक्तियों के लिए भगवान अवतार नहीं लेते, वह मेहनती व्यक्तियों के लिए ही अवतरित होते हैं, इसलिए कार्य करना आरम्भ करें।”

SL-1889

India is being bled till only the skeleton remains.

SL-1876

यदि भगवान छुआछूत को मानते हैं, तो मैं उन्हें भगवान नहीं कहूँगा।”

SL-1883

Swaraj is my birthright, and I shall have it!

SL-1884

Our nation is like a tree of which the original trunk is swarajya and the branches are swadeshi and boycott

SL-1888

If God is put up with untouchability, I will not call him God. ”

SL-1879

भारत का तब तक खून बहाया जा रहा है, जब तक यहाँ सिर्फ कंकाल शेष ना रह जाएं।”

SL-1880

महान उपलब्धियाँ कभी भी आसानी से नहीं मिलती और आसानी से मिली उपलब्धियाँ महान नहीं होतीं।” ~ बाल गंगाधर तिलक

SL-1881

कमजोर ना बनें, शक्तिशाली बनें और यह विश्वास रखें की भगवान हमेशा आपके साथ है।”

SL-1882

हो सकता है ये भगवान की मर्जी हो कि मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे पीड़ा में होने से अधिक लाभ मिले।” ~

SL-1890

It may be providence’s will that the cause I represent may prosper more by my suffering than by my remaining free.”

SL-6176

स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूँगा।”

SL-6177

आलसी व्यक्तियों के लिए भगवान अवतार नहीं लेते, वह मेहनती व्यक्तियों के लिए ही अवतरित होते हैं, इसलिए कार्य करना आरम्भ करें।”

SL-6178

मानव स्वभाव ही ऐसा है कि हम बिना उत्सवों के नहीं रह सकते, उत्सव प्रिय होना मानव स्वभाव है। हमारे त्यौहार होने ही चाहिए।”

SL-6179

आप मुश्किल समय में खतरों और असफलताओं के डर से बचने का प्रयास मत कीजिये। वे तो निश्चित रूप से आपके मार्ग में आयेंगे ही।”

SL-6180

प्रातः काल में उदय होने के लिए ही सूरज संध्या काल के अंधकार में डूब जाता है और अंधकार में जाए बिना प्रकाश प्राप्त नहीं हो सकता।”

SL-6181

गर्म हवा के झोंकों में जाए बिना, कष्ट उठाये बिना,पैरों मे छाले पड़े बिना स्वतन्त्रता नहीं मिल सकती। बिना कष्ट के कुछ नहीं मिलता।”

SL-6182

यदि भगवान छुआछूत को मानते हैं, तो मैं उन्हें भगवान नहीं कहूँगा।”

SL-6183

क्या पता ये भगवान की मर्जी हो की मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ, उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे दुखी होने से अधिक लाभ मिले।”

SL-6184

यह सत्य है कि बारिश की कमी के कारण अकाल पड़ता है, लेकिन यह भी सत्य है कि हमारे लोगों में इस बुराई से लड़ने की शक्ति नहीं है।” ~

SL-1885

If we trace the history of any nation backwards into the past, we come at last to a period of myths and traditions which eventually fade away into impenetrable darkness.

SL-1886

It may be providence's will that the cause I represent may prosper more by my suffering than by my remaining free.

SL-1887

After all, our Killers are our ...Brothers!!??

SL-6189

Swaraj is my birthright, and I shall have it!

SL-6190

Our nation is like a tree of which the original trunk is swarajya and the branches are swadeshi and boycott

SL-6191

If we trace the history of any nation backwards into the past, we come at last to a period of myths and traditions which eventually fade away into impenetrable darkness.

SL-6192

It may be providence's will that the cause I represent may prosper more by my suffering than by my remaining free.

SL-6193

After all, our Killers are our ...Brothers!!??

SL-6194

If God is put up with untouchability, I will not call him God. ”

SL-6195

India is being bled till only the skeleton remains.

SL-6196

It may be providence’s will that the cause I represent may prosper more by my suffering than by my remaining free.”

SL-6185

भारत का तब तक खून बहाया जा रहा है, जब तक यहाँ सिर्फ कंकाल शेष ना रह जाएं।”

SL-6186

महान उपलब्धियाँ कभी भी आसानी से नहीं मिलती और आसानी से मिली उपलब्धियाँ महान नहीं होतीं।” ~ बाल गंगाधर तिलक

SL-6187

कमजोर ना बनें, शक्तिशाली बनें और यह विश्वास रखें की भगवान हमेशा आपके साथ है।”

SL-6188

हो सकता है ये भगवान की मर्जी हो कि मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे पीड़ा में होने से अधिक लाभ मिले।” ~