Facts about Raja Ram Mohan Roy In Hindi, राजा राममोहन राय के बारे में रोचक तथ्य

FACTS ABOUT RAJA RAM MOHAN ROY IN HINDI, राजा राममोहन राय के बारे में रोचक तथ्य

FCT-6915

राजा राममोहन राय का जन्म 22 मई 1772 को बंगाल के राधा नगर गांव में बंगाली ब्राह्मण के यहां हुआ था।

FCT-6916

1803 से लेकर 1815 तक राजा राममोहन राय ने ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए मुंशी की नौकरी चाहिए थी।

FCT-6917

15 साल की उम्र में राजा राममोहन राय ने पुस्तक लिखकर मूर्ति पूजा का विरोध किया था जिसकी वजह से इनको इनके परिवार वालों ने निकाल दिया था।

FCT-6918

राजा राममोहन राय ने पूरी जिंदगी बाल विवाह का विरोध किया लेकिन इनका अपना विवाह छोटी उम्र में हो गया था इन्होंने विधवा पुनर्विवाह का समर्थन भी किया जबकि खुद इनकी तीन शादियां हुई थी।

FCT-6919

1816 में अंग्रेजी शब्द में “Hinduism ” शब्द का इस्तेमाल राजा राममोहन राय ने ही किया था।

FCT-6920

मुगल शासक अकबर द्वितीय ने राजा राम मोहन राय को राजा की उपाधि दी थी जब वह उनके लिए आर्थिक मदद लेने इंग्लैंड जा रहे थे।

FCT-6921

हिंदू होने के बावजूद भी राजा राम मोहन राय को दफनाया गया था क्योंकि उस समय इंग्लैंड में किसी के भी दाह संस्कार की अनुमति नहीं थी

FCT-6922

2004 में बीबीसी ने बंगाल में एक सर्वे कराया था जिसमें बंगाल के आज तक के सभी महान आदमी की सूची में राजा राम मोहन राय को दसवां स्थान मिला था

FCT-6923

सती प्रथा का विरोध करने वाले राजा राममोहन राय की सगी भाभी को उनके भाई की मौत के बाद सती प्रथा का हवाला देकर जिंदा जला दिया गया था

FCT-6924

राजा राममोहन राय जी पर किसी भी तरह की दुनिया की घटनाओं का कोई असर नहीं होता था।