Shayari - Trust

नाज़ुकी उसके लब की क्या कहिये,

पंखुड़ी इक गुलाब की सी है

Click Here To Read Full Post

2460 Views