आँखें जो खुली तो उन्हें अपने करीब पाया ना था

कभी थे रूह में शामिल आज उनका साया ना था

बेपनाह मोहब्बत की जिनसे उम्मीदें लिये बैठे थे

उनसे तन्हाइयों की सौगातें मिलेंगी बताया ना था

एक हम ही कसीदे हुस्न के हर बार पढ़ते रहे पर

उसने तो कभी हाल-ए-दिल सुनाया ना था

Click Here To Read Full Post

27970 Views

Kitnaa khouf hota hai shaam ke andheroo mein,

Poonch un parindoo se jin ke ghar nahi hote.

Click Here To Read Full Post

24307 Views

उसने मिलने की अजीब शर्त रखी… 
गालिब चल के आओ सूखे पत्तों पे लेकिन कोई आहट न हो!

Click Here To Read Full Post

18204 Views

इश्क का होना भी लाजमी है शायरी के लिये..
कलम लिखती तो दफ्तर का बाबू भी ग़ालिब होता।

Click Here To Read Full Post

21349 Views

रोज़ ये दिल बेकरार होता है,
काश के तुम समझ सकते की
चुप रहने वालो को भी किसी से प्यार होता है...

Click Here To Read Full Post

24021 Views

Hum toh fanaah ho gaye uski ankhen dekh kar Ghalib,
Na jane woh Aaina kaise dekhte honge.

Click Here To Read Full Post

20138 Views

Dard ho Dil Men To Dawa Kijiye
Dil hi Jab Dard Ho To Kya Kijiye.

Click Here To Read Full Post

31047 Views

दुःख देकर सवाल करते हो,
तुम भी जानम कमाल करते हो,


देख कर पूछ लिया हाल मेरा,
चलो कुछ तो ख्याल करते हो,


शहर-ए दिल में ये उदासियाँ कैसी,
ये भी मुझसे सवाल करते हो,


मरना चाहें तो मर नहीं सकते,
तुम भी जीना मुहाल करते हो,


अब किस-किस की मिसाल दूँ तुम को,
हर सितम बे-मिसाल करते हो।
 -मिरजा गालि़ब साहब

Click Here To Read Full Post

22562 Views

उड़ने दे इन परिंदों को आज़ाद फिजां में ‘गालिब’
जो तेरे अपने होंगे वो लौट आएँगे

Click Here To Read Full Post

30526 Views

खैरात में मिली ख़ुशी मुझे अच्छी नहीं लगती ग़ालिब,
मैं अपने दुखों में रहता हु नवावो की तरह...

Click Here To Read Full Post

19100 Views