मैं आप के बारे में सोच रहा था,

 और मुझे आश्चर्य हुआ कि आप

 कितनी देर तक मेरे ज़हन में थे 

तब मुझे एहसास हुआ: जबसे आप 

मुझे मिले, आपने कभी मेरा साथ नहीं छोड़ा!! 


Click Here To Read Full Post

529 Views

देखकर मेरी आँखें एक फकीर कहने लगा,


   पलकें तुम्हारी नाज़ुक है, 


   खवाबों का वज़न कम कीजिये...!

Click Here To Read Full Post

456 Views


ना दूर रहने से रिश्ते टूट जाते हैं

ना पास रहने से जुड़ जाते हैं 

यह तो एहसास के पक्के धागे हैं 

जो याद करने से और मजबूत हो जाते हैं


Click Here To Read Full Post

1904 Views