हमे बेवफा बोलने वाले 

आज तू भी सुनले, 

जिनकी फितरत ‘बेवफा’ 

होती है, 

उनके साथ कब ‘वफा’ होती है!!

Click Here To Read Full Post

12298 Views

ये किस तरह की ज़िद दिल मुझ से करने लगा, 
जिसे मैंने भूलना चाहा उसे वो याद करने लगा .

Click Here To Read Full Post

3327 Views

उसने मिलने की अजीब शर्त रखी… 
गालिब चल के आओ सूखे पत्तों पे लेकिन कोई आहट न हो!

Click Here To Read Full Post

18546 Views

मुझे इस बात का गम नहीं कि बदल गया ज़माना;
मेरी जिंदगी तो सिर्फ तुम हो, 
कहीं तुम ना बदल जाना!

Click Here To Read Full Post

3138 Views

मंजिल का नाराज होना भी जायज था… 
हम भी तो अजनबी राहों से दिल लगा बैठे थे…!

Click Here To Read Full Post

3173 Views

हमको तो बस तलाश नए रास्तों की है, 
हम हैं मुसाफ़िर ऐसे जो मंज़िल से आए हैं...

Click Here To Read Full Post

3370 Views