ये किस तरह की ज़िद दिल मुझ से करने लगा, 
जिसे मैंने भूलना चाहा उसे वो याद करने लगा .

Click Here To Read Full Post

747 Views

उसने मिलने की अजीब शर्त रखी… 
गालिब चल के आओ सूखे पत्तों पे लेकिन कोई आहट न हो!

Click Here To Read Full Post

2638 Views

मुझे इस बात का गम नहीं कि बदल गया ज़माना;
मेरी जिंदगी तो सिर्फ तुम हो, 
कहीं तुम ना बदल जाना!

Click Here To Read Full Post

684 Views

मंजिल का नाराज होना भी जायज था… 
हम भी तो अजनबी राहों से दिल लगा बैठे थे…!

Click Here To Read Full Post

704 Views

हमको तो बस तलाश नए रास्तों की है, 
हम हैं मुसाफ़िर ऐसे जो मंज़िल से आए हैं...

Click Here To Read Full Post

747 Views