मुकद्दर में लिखा ही नहीं